रामलला प्राण प्रतिष्ठा से पहले बीजेपी मंदिरों में चलाएगी स्वच्छता अभियान

0

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील पर बीजेपी 14 जनवरी से देश भर में स्वच्छता अभियान शुरू करेगी। बीजेपी ले राष्ट्रीय अध्यक्ष नड्डा दिल्ली से स्वच्छता अभियान की शुरुआत करेंगे। सभी केंद्रीय मंत्री और मुख्यमंत्री 22 जनवरी तक अयोध्या में रामलला के प्राण प्रतिष्ठा तक साफ-सफाई करेंगे। मंदिरों की सफाई खासतौर से होगी। बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता प्रेम शुक्ला ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में दी जानकारी। प्रेस कॉन्फ्रेंस में बीजेपी के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी व राष्ट्रीय प्रवक्ता डॉ. संजय मयूख भी मौजूद रहे।
राष्ट्रीय प्रवक्ता प्रेम शुक्ला ने शनिवार को बीजेपी के केन्द्रीय कार्यालय में आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा शुरू किए गए स्वच्छता अभियान की प्रशंसा करते हुए कहा कि अयोध्या में प्रभु श्रीराम के भव्य मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के कार्यक्रम के साथ ही प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सम्पूर्ण देश में स्वच्छता अभियान को नई गति प्रदान की है, प्रधानमंत्री जी ने देश की जनता से इस अभियान में अपना सहयोग देने का आह्वान किया।
प्रेम शुक्ला ने बताया कि आगामी 22 जनवरी 2024 को अभिजीत मुहूर्त, सर्वार्थ सिद्धि योग और रवि पुष्य नक्षत्र में अयोध्या में श्री राम जन्मभूमि पर रामलला का प्राण प्रतिष्ठा होगा। इस निमित्त प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पूरे देश में स्वच्छता अभियान का आह्वान किया और इसकी शुरुआत उन्होंने नासिक के ऐतिहासिक कालाराम मंदिर में सफाई कर की। भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा के नेतृत्व में रविवार को दिल्ली में भाजपा स्वच्छता अभियान में अपनी भागीदारी देगा। इसमें पार्टी के भाजपा नेता एवं मंत्री, भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्री, विभिन्न प्रदेशों के भाजपा प्रदेशाध्यक्ष, राष्ट्रीय एवं राज्य पदाधिकारी और समस्त जनप्रतिनिधियों योगदान करेंगे।
प्रेम शुक्ला ने कहा कि माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की संकल्पना “अयोध्या में विराजेंगे श्री राम और स्वच्छ होंगे सभी मंदिर, तीर्थ और धाम” और इस विचारधारा के साथ स्वच्छता अभियान के प्रति उनका समर्पण सर्वज्ञात है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने राजनैतिक एवं आर्थिक स्वच्छता का अभियान की शुरुआत पहले ही कर दी थी। स्वच्छता अभियान की नींव 2 अक्टूबर 2014 को महात्मा गांधी की जयंती के अवसर पर डाली गई थी। उस समय प्रधानमंत्री ने कहा था कि ईश्वर की भक्ति के बाद स्वच्छता ही सबसे बड़ी भक्ति है।
उन्होंने कहा कि आज जब 500 वर्षों के संघर्ष के बाद अयोध्या में प्रभु श्री राम की प्राण प्रतिष्ठा होने जा रही है तब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने स्वच्छता अभियान को नई गति देने आह्वान किया है। यह कार्यक्रम राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा के निर्देशानुसार रविवार, 14 जनवरी 2024 से प्रारंभ होकर 22 जनवरी 2024 तक पूरे देश में चलेगा। इसके तहत सभी मंदिर परिसरों में विशेष स्वच्छता अभियान चलाया जाएगा जिसमें स्वयं पार्टी के मंत्री एवं कार्यकर्ता मंदिरों में सफाई कर जनमानस को प्रेरित करेंगे। इस अभियान के तहत भाजपा के सदस्य व कार्यकर्ता प्रतिदिन औसतन 2-3 घंटे का समय स्वच्छता के लिए देंगे।
स्वच्छता अभियान के नारे की जानकारी देते हुए प्रेम शुक्ला ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 30 सितंबर 2023 को सोशल मीडिया पोस्ट कर संदेश दिया था कि हर नागरिक को ‘स्वच्छता ही सेवा’ अभियान में भाग लेकर 1 घंटा स्वच्छता के लिए समर्पित करना चाहिए। प्रधानमंत्री ने इस अभियान के संदर्भ में नारा दिया में “एक तारीख, एक घंटा, एक साथ”। इस अभियान के तहत विभिन्न राज्यों में 10 करोड़ इज्जत-घरों का निर्माण हुआ है। देश के लगभग हर गांव को ओडीएफ श्रेणी में लेकर आने की उपलब्धि भारत के लिए मील का पत्थर है। किसी समय में खुले में शौच करने के कारण भारत की अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर निंदा की जाती थी, वही भारत अपनी छवि आज एक स्वच्छ देश के रूप में बनाने में सफल हुआ है।
शुक्ला ने आगे कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जब लाल किले की प्राचीर से ‘स्वच्छ भारत अभियान’ की घोषणा की थी, तब विपक्षी दलों ने प्रधानमंत्री का मजाक उड़ाया और सवाल किये थे कि भारत में स्वच्छता अभियान कैसे सफल होगा? नवंबर 2014 में वाराणसी के अस्सी घाट पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने स्वयं स्वच्छता अभियान में हिस्सा लिया था। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने स्वयं स्वच्छता अभियान में हिस्सा लेकर इसे सफल बनाया। कई मौकों पर उन्होंने खुद सफाई की, जिनमें नवंबर 2018 में वाराणसी का अस्सी घाट और सितंबर 2018 में दिल्ली के पहाड़गंज का सरकारी विद्यालय शामिल हैं। इसके साथ ही प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने फरवरी 2019 में प्रयागराज में आयोजित कुम्भ में सफाई कर्मियों के चरण पखारे थे। विश्व के इतिहास में वे अकेले ऐसे प्रधानमंत्री हैं जिन्होंने सफाई कर्मियों के चरण पखारने में किसी प्रकार का संकोच नहीं किया। अक्टूबर 2023 में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने सोशल मीडिया इंफ्लुएंसर अंकित बैयानपुरिया के साथ ‘स्वच्छता ही सेवा’ अभियान के तहत सफाई कार्यक्रम में हिस्सा लिया था।
उन्होंने कहा कि जिस मंदिर में संविधान निर्माता डॉ. बाबा साहब अंबेडकर के प्रवेश को रोकने की ऐतिहासिक भूल हुई थी, उसी कालाराम मंदिर में प्रधानमंत्री ने झाड़ू-पोंछा लगाकर स्वच्छता अभियान को नई गति दी है। भाजपा के सभी सदस्य, कार्यकर्ता, पदाधिकारी एवं मंत्रीगण अथक प्रयास कर इस अभियान को सफल बनाने के लिए प्रतिबद्ध रहेंगे।

About Post Author

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x